“जिँदगी मेँ दोस्त नही बल्कि दोस्त मेँ जिँदगी होनी चाहिए”

देख, sunil मैने नया मोबाइल खरीदा..!!

Sunil : वाह.. क्या बात है,

बंदा तेजी मेँ है..

आज पार्टी तो देनी पडेगी तुझे..!

अगर पार्टी देगा तो मैँ भी तुझे एक Gift

दुँगा..!

Raju : OK चल ठीक है आज रात

को Hotel मेँ पार्टी मेरी तरफ से..

(रात को दोनो Hotel मेँ मिलते है)

Sunil : अरे यार तु इतना गरीब है, एक-एक

रुपया इकठ्ठा करके मोबाइल खरीदा और अब

पार्टी का इंतजाम कैसे किया..?

Raju  : पार्टी के लिए मोबाइल बेच दिया..

तेरे लिए तो जान भी दे दु तु कहे तो…!

Sunil : मुझे पता था तु साला ऐसा ही कुछ

करेगा… इसलिए तुने जिस दुकान पर

मोबाइल बेचा मैने वही से वापस खरीद कर

लाया हु…ले यह मेरी तरफ से”GIFT”

Raju :”जिँदगी मेँ दोस्त नही बल्कि दोस्त

मेँ जिँदगी होनी चाहिए”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *