पायल ‘ हज़ारों रूपये में आती है पर !!!!!!

पायल ‘ हज़ारों रूपये में आती है
पर
‘ पैरो ‘ में पहनी जाती है
और..
‘ बिंदी ‘ एक रूपये में आती है
मगर
‘ माथे ‘ पर सजाई जाती है..

इसलिए कीमत मायने नहीं
रखती उसका कृत्य मायने रखता हैं.

एक ‘ किताबघर ‘ में पड़ी ”
” गीता ” और ” कुरान ” आपस में कभी नहीं लड़ते,
और
जो उनके लिए लड़ते हैं वो कभी उन दोनों को नहीं
” पढ़ते “..

‘ नमक ‘ की तरह
‘ कड़वा ‘ ज्ञान देने वाला ही
‘ सच्चा मित्र ‘ होता है..

‘ मीठी ‘ बात करने वाले तो
‘ चापलूस ‘ भी होते है..

इतिहास गवाह है की आज तक कभी ‘ नमक ‘ में ‘ कीड़े ‘ नहीं पड़े..

और ‘ मिठाई ‘ में तो अक़्सर ‘ कीड़े ‘ पड़ जाया करते है.

” अच्छे मार्ग ” पर कोई व्यक्ति नही जाता पर ” बुरे मार्ग ”
पर सभी जाते है..

.इसीलिये ” दारू ” बेचने वाला कही नही जाता ,

पर ” दूध बेचने ”
वाले को घर ,
गली -गली ,
कोने- कोने जाना पड़ता है..
और दूध वाले से बार -बार पूछा जाता है कि ” पानी तो नही डाला ” ?

पर दारू मे खुद ” हाथो से पानी ” मिला-मिला पीते है..

वाह रे दुनियाँ और दुनियाँ की रीत ……

????????????

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *