सुख और दुःख हमारे पारिवारिक सदस्य नहीं, मेहमान है !

सुख और दुःख हमारे पारिवारिक सदस्य नहीं, मेहमान है !
बारी बारी से आयेंगे कुछ दिन ठहर कर चले जायेंगे
अगर वो नहीं आयेंगे
तो हम अनुभव कहाँ से लायेंगे

Good Morning . . .

Have a nice day . . .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *