क्या सच में भूतों की बारात निकलती है?

मैंने तो नहीं देखी।

हाँ एक बार उत्तराखंड के एक पहाड़ी गाँव गया था, वहां रोज रात को वाद्य यंत्रों की आवाजें और ढोल नगाड़ों की आवाजें सुनाई देती वहीं जंगल की तरफ से।

स्थानीय निवासी बताते थे, की यह भूतों की बारात निकलती है।

मेरा प्रश्न सदैव एहि होता था, —रोज कौन बरात निकलता है? शायद उन जंगलों में प्राकृतिक हवा जब पेड़ो, पौधों, औए गुफाओं आदि से निकलती हो तब ऐसी आवाजें बन जाती हो।