72000 rahul Gandhi kis ko denge?

कौन हैं, ये अति गरीब लोग,

जिनको राहुल गाँधी

सालाना 72000 रुपये मदद करना चाहते हैं ?

क्या लोगों के टैक्स के पैसे अब

कांग्रेस पार्टी अपने वोट खरीदने में लगाएगी ?

दरअसल स्कीम क्या है ?

जो परिवार महीने का 12000 से कम आय वाले हैं,

उनको कांग्रेसी सरकार बनी तो

12000 आय सुनिश्चित की जायेगी !

मतलब परिवार की आय 6000 है तो 6000 सरकार देगी !

अगर 9000 है तो 3000 सरकार देगी !

अगर 12000 है तो फिर कुछ नहीं देगी !

लोगों को बेवकूफ बनाने का खेल समझो ।

आवेदन में

सेलेरी स्लिप ,

आधार कार्ड ,

बैंक डिटेल ,

राशन कार्ड

देना होगा !

अब असली खेल :

केन्द्र सरकार द्वारा न्यूनतम मजदूरी ( मिनिमम वेजेज )

मूल्य 400/- प्रति दिन तय हैं,

मतलब 12000 रु महीना !

कोई बिल्डर ,

ठेकेदार ,

या कंपनी

चाहकर भी 12,000/- से कम की

पे स्लिप नहीं दे सकता ।

अगर वो ऐसा करता हैं, तो ये On Records अपराध होगा ।

और

बिना पे स्लिप

और

बैंक डिटेल ये लाभ मिल नहीं सकता !

तो फिर किसको मिलेगा इसका लाभ ?

रातों रात कांग्रेस किसानों की तरह बैंकों से सेटिंग कर फर्जी लाभार्थी बनायेगी,

जो की वास्तव में कांग्रेस पार्टी का परंपरागत वोटर, पार्टी कार्यकर्ता या

बांग्लादेशी / रोहिंग्या होगा ।

आपके टैक्स के पैसों का इन लोगों की जेब में जायेगा !

मान लो परिवार में दो लोग कमाते हैं तो रोज 100 रु कमाने वाले को ये लाभ मिलेगा

और

भारत में ऐसे 2% भी नहीं हैं !

ये खेल चिदम्बरम और कपिल सिब्बल के दिमाग की उपज हैं,

और पप्पू को चिठ्ठी थमा दिया है ।

और लालची हिन्दू 72,000/- के लालच में इन्हें वोट देंगे ।

जागरूक नागरिक शेयर अवश्य करें ।