खलता है पर सब कुछ चलता है

खलता है पर ~
सब कुछ चलता है ~
१० रू का मुठठी भर Chips
बडे चाव से खाते मेरे Lips ~
११०० रू किलो माणिक चंद
चलता है ~
पर 30 रू किलो टमाटर
खलता है ~
Weekend पर Hotel मे
खाना ~
Multiplex मे Movie जाना ~
१० का Popcorn 80 मे
वहाँ चलता है ~
पर कामवाली १० रू Extra
मांगे ~
खलता है ~
Whatsapp पर Chat
इन्टरनेट का पैक ~
लग गयी घंटो वाट ~
सौ-सौ Friends के साथ
Online याराना चलता है ~
पर दो मिनट पड़ोसी के साथ
हँसना खलता है ~
यारो संग हो इकठ्ठा,
Cricket मे हारा कितना
सट्टा ~
Share Market मे लाखो का
हेर-फेर चलता है ~
पर भाई को दो इंच जमीन
Extra जाये खलता है ~
समझ बड़ी दयनीय
और
विचार हो गए मतलबी ~
कहाँ रह गया वो इन्सानी रिश्ता
बस यूँ ही चलता है ~
माचिस की जरूरत ही नहीं यहाँ पर
इन्सान इन्सान से जलता है ~
सब कुछ चलता है ~

Leave a Comment