जज – तू तीसरी बार अदालत आया है..तुझे ?

जज – तू तीसरी बार अदालत आया है..तुझे शर्म नही आती..? ??

मुजरिम – साले तू तो रोज़ आता है तुझे तो डूब के मर जाना चाहिए।