“सोच ये ना रखें की मुझे रास्ता अच्छा मिले, बल्कि

“सोच ये ना रखें की मुझे रास्ता अच्छा मिले,
बल्कि
ये होना चाहिए कि मैं जहां पाव रखूं वो रास्ता अच्छा हो जाए;

क्यूँकि जो अपने कदमों की काबिलियत पर विश्वास रखते हैं,
वो ही अक्सर मंजिल पर पहूँचते है!”

Good morning . . .

Have a nice day . . .

Leave a Comment