सारा जहाॅ उसीका है – जो मुस्कुराना जानता है

सारा जहाॅ उसीका है
जो मुस्कुराना जानता है
रोशनी भी उसीकी है जो शमा
जलाना जानता है
हर जगह मंदिर मस्जिद गुरूद्वारे है।
लेकीन इश्वर तो उसीका है जो
“सर” झुकाना जानता है

Good Morning . . .

Have a nice day . .

Leave a Comment